मोटर व्हीकल एक्ट 2019 सही या गलत ???? आम जनता के लिए

सरकार का संशोधन क्या सही है मोटर वेहिकल एक्ट 2019 मै ।

आज हम सभी महगांई की दौर से गुजर रहे है भारत में आज हर चीज़ मै भारत के आम लोग झुज़ रहे है 
आज कोई माने न माने पर भारत पहले ही आर्थिक संकट से गुजर रहा है। 
जी हां भारत आज आर्थिक संकट से गुजर रहा है यह एक सच्चाई है चाहे ऐसे कितने भी छुपाने की कोशिश करे भारत सरकार भारत की जी डी पी आज घटकर 5%पर आ गई है जिसका सिथा था मतलब है भारत पीछे की और जा रहा है जो की बहुत दुखत बात है।
आज के ब्लॉग मै हम खास कर बात करेगे मोटर वाहन एक्ट मै किए गए संशोधन के बारे मै किं ऐसे समय मै यह लागू करना कितना सही या गतल रहेगा जब भारत का विकास पीछे की और जा रहा है और देश में आर्थिक मंदी का दौर है ।

नीचे दिए गए फोटो में आप देख सकते है कि कितना बहलाव किया गया है फाइन मै पहले कितना था और अब कितना है ।एक आम आदमी के उपर इसका कितना असर पड़ेगा ।

मेरे हिसाब से और देश की स्थिती के अनुसार अभी इस कानून को लागू करना ठीक नी था कियुकी देश अभी पहले ही नाजुक स्थिती मै है विकास दर कम हो रही है देश का विकास नहीं हो रहा है युवा बेरोजगार है । ऐसे स्थिती मै कोई इतना फाइन केसे दे सकता है ना तो देश का इतना विकास हुआ है कि सरकार हमें इतनी सुविधाएं दे रही है कि इतना फाइन लगाए रोड की हालत तो ठीक है नहीं भारत मै बाकी तो दूर की बात है ।

नीचे कुछ कारण है जिनके वजह से अभी इस एक्ट को लागू नी करना चाहिए था।


 1. भारत मै बढ़ती बेरोजगारी 

     यह भी एक मुख्य कारण है कि भारत में अभी बेरोजगारी बढ़ती जा रही है ।देश का युवा बहुत बेरोजगार है उसके पास जब काम है नहीं होगा तो वो इतना ज्यादा फाइन कनहा से भरेगा इसकी इतनी आवश्यक भी नी थी अभी लागू करने की इस से ज्यादा सरकार देश के विकास कार्य के बारे मै सोचे तो वो ज्यादा अच्छा रहेगा ।
     आज भारत मै बहुत ज्यादा युवा लोग  बिना काम के है उनके पास डिग्रियां तो बहुत है पर काम नहीं और सरकार बोलती है पोकोड तल लो ।


     पर ऐसे ही समय आला कमान को याद आया कि एक्ट को लागू कर डी उस मै संशोधन कर लो और ज्यादा से ज्यादा फाइन रखो जब देश मै पहले ही आर्थिक संकट है इसका भार भी सरकार आम लोगों के कंधो पर ही डालना चाहता है

2. जी डी पी ग्रोथ रेट नीचे आना ।
    ये भी एक अच्छा चिन्ह नहीं है देश के लिए आज भारत की विकास दर बहुत नीचे आ गए है पहले के मुकाबले कनह तो देश का विकास होना चाहिए था पर आज वो भी नहीं हो रहा है इस विषय मै भी सरकार देश से बहुत कुछ छुपा रही है ।बस ऐसे समय मै सरकार देश वासियों के एक नए बोझ के रूप में मोटर वाहन एक्ट को लागू कर रही है यानी उस मै संशोधन कर रही है ।देश मै आज ऐसे बहुत से कानून है जिनको बदलना चाहिए
जिनको बदलने की बहुत ज़रूरत है जिन से जनता का बहुत फायदा होगा ऐसे कानून को ना बदल कर आज सरकार उन कानून को बदल रही है जिन से आम लोगों पर बोझ पद रहा है आज के टाइम मै आम लोगों का कोई नहीं सोचता है सभी यनहा अपने पेट भरने मै लगे है


3. आर्थिक मंदी - सरकार इस बात को माने ना माने पर देश आज आर्थिक मंदी से गुजर रहा है पर कोई इस बात को माने तब सरकार तो बस जनता का बेबकुफ बनने मै लगी है ।

की किस तरह से आम लोगों को लुटा जाए बस जब देश आर्थिक तंगी से गुजर रहा है ऐसे समय मै देश मै मोटर व्हीकल एक्ट मै संशोधन कर के जुर्माने मै भारी बढ़ोतरी की जा चुकी हैं। सरकार को लगता है आर्थिक मंदी का असर उन पर ही पड़ा है आम लोगों का उस से जैसे कोई वास्ता ही नहीं है ।जैसे कि हम किस दूसरी दुनिया मै रहते है ।



आज देश के कोने कोने से ख़बर आ रही है सोशल मीडिया के माध्यम से आम जनता को कितनी परेशानी हो रही है जरूरी नहीं की इंसान हर दम सब डॉक्यूमेंट लेकर साथ चले जिनका अभी तक चालान हुआ है उनको कितनी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा वो एक आम आदमी ही जनता है । आज ये को चालान हो रहे ये ना तो किसी पैसे वाले के हो रहे ना मंत्रियों के ना किसी वी आई पी के ये होते है बस आम लोगों के लिए ये कानून  बना है सिर्फ आम लोगों के लिए वही इसमें पिस्ता रहता है अमर भर ये एक लोकतंत्र का काला सच है जिस से अभी मुंह छिपाते है ना जिसके पीछे कोई आवाज उठाता  ही नहीं तोड़ा विषय अलग है इस पर मै एक अलग से ब्लॉग लिखूंगा 



अगर आपको हमारे ब्लॉग अच्छे लगते है तो प्लीज़ हमें सब्सक्राइब करे आने ए मेल को लोग इन करेके इस से हमारे आर्टिकल आपको सबसे पहले मिल जायेगे ।

टिप्पणी पोस्ट करें